ड्रैगन फ्रूट की फायदे वाली खेती (Dragon Fruites):Best जानकारी

भारतीय किसान भाइयो के लिए भी ड्रैगन फ्रूट की फायदे वाली खेती करने से किसान लाखो की कमाई कर सकते है इसमें क्या के काम करना करना है।
ड्रैगन फ्रूट के मुख्य प्रकार के कार्य जो इसप्रकार है –
जलवायु , मृदा ,भूमि की तैयारी , प्रवर्धन एवं लगाने की विधि ,अंतरण ,पादप सघनता ,खाद एवं उर्वरक ,सिंचाई ,कीट एवं व्याधियां,तुड़ाई, उपज ,औषधीय गुण

अब भारतीय किसानो के लिए (Dragon Fruit Farming Profit )फायदे वाली किसानी की जा सकती है और साल में लाखो कमाया जा सकता जिसके लिए हम ड्रैगन फ्रूट की खेती करना सिखाएंगे। आज भारत में भी कितने लोग है जो ड्रैगन फ्रूट की खेती करके साल में 30 लाख तक कमा रहे है , वैसे ये पहले विदेशो में महसूर थी पर अब भारत में भी इसकी खेती होने लगी है यह बहुत महंगा बिकता है और इसके बहुत सरे फायदे है जिसके बारे में हम details के साथ बात करेंगे।

ड्रैगन फ्रूट की खेती , dragon fruites ki kheti in hindi , dragon fruite ki kheti kaise kare ,
ड्रैगन फ्रूट की खेती

Table of Contents

भारत में ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे करे ?

ड्रैगन फ्रूट एक प्रकार का फल है जिसके कई प्रकार के फायदे होते है और किसान भी इससे अच्छे खासे मोटा मोटा रुपया कमा लेते है, और अभी भारत में भी बहुत आसानी से ड्रैगन फ्रूट की खेती की जा रही है।

ड्रैगन फ्रूट क्या है और इससे किसान कैसे लाखो कमा रहे है ?

ड्रैगन फ्रूट एक प्रकार का फल है जिसके कई प्रकार के फायदे होते है और किसान भी इससे अच्छे खासे मोटा मोटा रुपया कमा लेते है और भारत में कमलम के नाम से जाना जाता है। यह विदेशो में काफी महसूर है जैसे – थाईलैंड और इस्राइल में काफी जनता प्रिय है ,ड्रैगन फ्रूट (फल ) में कमल के समान स्पाइक्स और पंखुड़ियां पायी जाती है और एक अन्य नाम पिताया (Pitaya) से भी जाना जाता है।

अन्य जानकारी

आलू की अच्छी उपज और फायदे वाली खेती कैसे करे

केले की खेती की सम्पूर्ण जानकारी | प्रति एकड़ Banana Farming से लाभ

“जैविक खेती: एक लाभकारी और Top ऑर्गैनिक खेती से पर्यावरण को लाभ

ड्रैगन फ्रूट्स के सिर्फ १०० ग्राम फल के कुछ महत्वपूर्ण पोषकतत्व निचे दिए गए टेबल सरणी में इस प्रकार है –

पोषक तत्वमात्रा पोषक तत्वमात्रा 
नमी85.3प्रतिशतविटामिन ‘ए’  0.01 मि.ग्रा
प्रोटीन 1.10 ग्राम नियासिन 2.80 मि.ग्रा
वसा 9.57 मि.ग्रा. कैल्शियम 10.20 मि.ग्रा
 क्रूड फाइबर 1.34 मि.ग्रा. आयरन 3.37 मि.ग्रा
ऊर्जा 67.70 किलो कैलोरी मैग्नीशियम 38.90 मि.ग्रा
कार्बोहाइड्रेट 11.2 मि.ग्रा. फाॅस्फोरस 27.75 मि.ग्रा
ग्लूकोज 5.70 मि.ग्रा. पोटेशियम 272.0 मि.ग्रा
फ्रक्टाेज 3.20 मि.ग्रा. सोडियम 8.90 मि.ग्रा
सोरबिटोल 0.33 मि.ग्रा. जिंक0.35 मि.ग्रा
विटामिन ‘सी’3.00 मि.ग्रा

ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे करे ? (dragon fruit ki kheti kaise kare)

भारत एक बहुत बड़ा कृषि प्रधान देश है जहा हर प्रकार की खेती होती है और ड्रैगन फ्रूट की डिमांड , फायदा और अच्छी मार्केट देखकर इसकी खेती करना सुरु कर दिया गया। यह पर हर प्रकार की मिटटी और ठंड एवं गर्म प्रदेश भी है जिसके कारण ये संभव है की यहाँ भी ड्रैगन फ्रूट की खेती की जा सकती है
इसकी खेती के लिए एरिया टेम्प्रेचर 20 से 30 डिग्री होना चाहिए और मिटटी बलुई दोमट या बलुई , रेत जैसी होनी चाहिए।
और इसको सूरज के प्रकाश से बचने के लिए छायादर जगहे पर खेती की जाती है। वैज्ञानिको की राय में मिटटी का PH मान 5.5 – 7 के बेच होना चाहिए।

ड्रैगन फ्रूट के कुछ अलग-2 प्रकार

ड्रैगन फ्रूट के फल तीन प्रकार के होते है –

  1. सफेद गूदा वाला, लाल रंग का फल
  2. लाल गूदा वाला, लाल रंग का फल
  3. सफेद गूदा वाला, पीले रंग का फल पोषक तत्व

ड्रैगन फ्रूट्स के खेती के लिए बीज और पौधे

ड्रैगन फ्रूट्स के खेती के लिए हम अच्छे किस्म के बीज का या प्लांट का उपयोग करने को बता रहे है अच्छे किस्म के बीज -ग्राफ्टेड बीज बेस्ट क्वालिटी के बीज होते है और यदि ग्राफ्टेड प्लांट मिल जाये तो ये और अच्छे होते है इन्हे काम समय भी देना पड़ता है।

बीज या पौधों की बुवाई

बीज या पौधों की बुवाई के समय कम से कम 2 मीटर रखे। उसके बाद हमे 55 CM से 60 CM का गड्ढा जिसकी चौड़ाई और गहरान बराबर 60 CM होने चाहिए।
पौधा रोपण के बाद इसके अच्छे से देखरेख होने चाहिए और महीने में एक बार ड्रैगन के पेड़ को पानी की सिचाई की जरुरत होती है।
और इसके तने कमजोर होते है इस लिए आप सीमेंटेड पिलर या लकड़ी के पिलर से इसके तनो को रस्सी से बांध देना चाहिए।।
फिर हम देखेंगे की 16 से 20 महीने में ये प्लांट तैयार हो जायेंगे।
लगभग 2 साल में फल देने सुरु कर देंगे।

ड्रैगन फ्रूट की खेती करने के लिए उसकी भूमि और जलवायु

ड्रैगन फ्रूट की खेती करने के लिए उसकी भूमि का चयन एक खास किस्म की मिटटी की जरुरत नहीं पड़ती है | इसलिए इसको कोई भी मिटटी में ड्रैगन फ्रूट्स की खेती की जा सकती है | मिटटी चाहे जो भी हो जैसे – रेतिली दोमट, दोमट मिट्टी इत्यादि कोई भी साडी खेती की लिए उपयुक्त है | इसके लिए तापमान जरुरी होता है जो की 40 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा नहीं होता चाहिए | इसमें थोड़ा मेहनत जरूर होता है जैसे – की ड्रैगन फ्रूट की खेती में रोजाना कल्टीवेशन की जरुरत होती है |

ड्रैगन फ्रूट की खेती में शुरुआती आने वाली कीमत

न्यूज़ से आकड़े जो आये है वो ये है की इसकी एक एकड़ खेती करने में लगभग 300000 (लाख) रूपये की कीमत सुरुवाती दौर में लगती है | जिसमे किसान भाई लगातार 23 से 25 साल तक इसकी पैदावार से लगतार कमाई कर सकते है | कम से कम इसके एक एकड़ में लगभग सबकुछ ठीक रहा तो इसकी पैदावार 11 से 12 टन जिसकी मार्केट में कीमत 8 से 8 .5 लाख रूपये है जो एक बढ़िया मौका है किसान भाई की कमाई करने के लिए |

ड्रैगन फ्रूट में खाद की जरुरत

ड्रैगन फ्रूट की खेती में बहुत ज्यादा मात्रा में उपज प्राप्त करने के लिए एक-एक पौधे को 12 से 14 किलो ग्राम कम्पोस्ट खाद और 300 ग्राम नीम की झाल और 35-45 ग्राम फोरेट एवं 6-8 ग्राम बाविस्टिन को मिलकर अच्छी तरह से गड्ढे दाल दे जिससे उसमे कीड़े की समस्या न हो |

ड्रैगन फ्रूट की खेती में सिंचाई का समय

ड्रैगन फ्रूट की खेती में सिचाई की कम जरुरत पड़ती है जैसा की दूसरे पेड़ो को लगती है इसमें सिर्फ रोपण और फूल आने पर एवं इसको शुष्क मौसम में कई बार सिंचाई की जरुरत पड़ती है।

इसकी खेती में कीट -पतंगे

अक्सर इसकी खेती में कीटपतंगे कम पाए जाते है ,फिर भी हमने इसमें एंथ्रेक्नोज(anthroj) रोग व थ्रिप्स कीट(Thrips) का प्रकोप देखने को मिला है। इसलिए मैन्कोजेब दवा का घोल 1 /4 की दर से एंथ्रेक्नोज के लिए और थ्रिप्स के लिए एसीफेट दवा का 0.1 % की दर से स्पाय करना चाहिए |

ड्रैगन की तुड़ाई का समय

ड्रैगन फ्रूट पहले साल से ही फल उत्पादन होने लगता है | अक्सर इसमें मई से जून में फूल आते है तथा जुलाई एवं दिसंबर तक फल आते है। फल आने के एक माह के बाद इसकी तुड़ाई सुरु हो जाती है |

ड्रैगन उत्पादन

ड्रैगन फ्रूट की खेती में एक पौधा एक सीजन में 3 -4 बार फल आते है। इसके फल का वजन 300 -800 gm का होता है |प्रत्येक पौधा 60 से 100 देता है | इसतरह देखा गया है की ड्रैगन की खेती में प्रति एकड़ 6 से 7 टन की उत्पादन होती है जो एक बहु उपयोगी उपज है जिससे किसान अच्छा मुनाफा कमाते है |

ड्रैगन फल के लाभकारी गुड़

कॉलेस्ट्रॉल घटाने, इम्युनिटी बढ़ाने, हृदय रोगियों के लिए, हीमोग्लोबिन बढ़ाने,स्वस्थ बालों और वजन घटाने व त्वचा के लिए, एवं मधुमेह और कैंसर बहुत सारी रोगो ख़त्म करने का भी क्षमता होती है , कोरोना काल में भी इसकी काफी बिक्री हुई थी | यह बहुत ही गडकरी एबं लाभकारी है फल होता है |

ड्रैगन फल से लाखो की कमाई

ड्रैगन फ्रूट्स से लाखो की कमाई इस लिए सफल क्योकि इसका ज्यादा कॉम्पीशन नहीं इसलिए भारत में एक फल की कीमत लगभग 150 से 200 रूपये है , और भारत के मार्केट में इसकी काफी डिमांड है जिससे हमे अपनी मार्केट में सेल बनाकर अच्छे खासे रूपये EARN कर सकते है।
और डॉक्टर भी कोविद के समय इसकी सलाह दिए थे जिससे ये और ON DEMAND हो गयी है।

क्या मैं भारत में ड्रैगन फ्रूट उगा सकता हूं?

जी हाँ ! आप भारत में भी ड्रैगन की खेती कर सकते है |

ड्रैगन फ्रूट कितने दिन में तैयार होता है?

ड्रैगन एक साल के बाद फूल और फूल आने के एक महीने बाद फल तैयार हो जाते है |

ड्रैगन फ्रूट कहां उग सकता है?

इसकी खेती कई जगहों पर की जाती है और पहले इसकी खेती विदेशो में ज्यादा की जाती है और अब भारत में भी इसकी खेती की जा रही है |

ड्रैगन फ्रूट कितने साल में फल देता है?

ड्रैगन की खेती में किसान भाई को एक साल में फल प्राप्त होने लगते है |

ड्रैगन फ्रूट के लिए कौन सी भूमि उपयुक्त है?

यह किसी भी प्रकार की भूमि में उगाई जा सकती है |

एक ड्रैगन फ्रूट की कीमत क्या है?

हर जगहे की बाजार में अलग अलग रेट और कुछ जगहों पर इसको 100 रूपये का एक पीस बेचा जाता है |

ड्रैगन फल का दूसरा नाम क्या है?

स्ट्राबेरी नासपाती

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top