Samuhik Krishi Kya Hai : Ek Samarthan Samriddhi ki Adbhut Pahal 2023

Prarambhik Bhumika

भारत में samuhik krishi kya hai एक प्रकार की ब्यवस्था है जिसमे किसान भाई एक समूह में खेती का प्रबंध करते है आज हम सामूहिक कृषि क्या है पर ही चर्चा करेंगे |

Bharat, jise “Krishi Pradhan Desh” ke roop mein jana jata hai, apni anekata mein samriddh hai. Desh ki arthavyavastha ka ek bada hissa krishi par adharit hai, aur lagbhag 70% log is kshetra se rojgar prapt karte hain. Lekin, krishi ke kshetra mein badalte samay ke saath-saath, kai samasyaon ka samna karna hota hai, jaise prakritik apdaon ka samna, mitti ki urvaraata ka kam hona, kisanon ko sahi takneek aur takniko ki kami, aur chinta ki baat hai ki bhavishya mein krishi ke kshetra mein vruddhi kaise hogi.

Isi chunautiyon ka samadhan nikalne ke liye, samuhik krishi ek aisa prashasnik aur vyavsayik pahal hai, jise desh ke krishi kshetra mein samriddhi aur vikas ki disha mein badalne ka sankalp hai. Is lekh mein, hum samuhik krishi ke vishay mein gahrai se charcha karenge. Samuhik krishi kya hai, iske labh aur chunautiyan, iski upalabdhiyan, aur kis tarah se yeh Bharat ki krishi ko sudharne ka ek madhyam ban sakta hai, yeh sab vishay is lekh ke antargat padhe jayenge.

samuhik krishi kya hai

समूहिक कृषि का मतलब होता है, किसानों के समूहों या संगठनों के द्वारा कृषि कार्यों का संचालन करना। यह विभिन्न किसानों को एकत्र करके उन्हें संबंधित कृषि तकनीकों, विज्ञान, और बाजार जानकारी के साथ सम्पन्न करता है। इसके द्वारा, ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों की आय और जीवनस्तर को सुधारने का प्रयास किया जाता है। समूहिक कृषि में किसानों को साझा ब्याजदारी, सम्मान, और संबंधों का माध्यम भी प्रदान किया जाता है जो उन्हें आर्थिक रूप से मजबूत बनाता है। इसके माध्यम से, बढ़ती हुई जनसंख्या के साथ भारत में कृषि उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए कृषि क्षेत्र में सुधार किए जाते हैं।

Samuhik Krishi ka Arth

Samuhik krishi, ek aisa krishi prakriya hai jisme ek samudayik samarthan ke roop mein kisanon, chhote aur bade, sarkar, aur anya sahayogiyon ki sahayata se kheti ki jaati hai. Yeh samarthan samriddhi ki aur ek kadam hai, jisme kisanon ko modern takneek aur takniko ke upayog se labh milta hai. Samuhik krishi mein kisanon ke beech anubandh aur sahyog hota hai, jo unhe naye takneekon, fasalon, aur vikasit utpadon ke liye sahi sujhav pradan karte hain.

Samuhik krishi ke antargat kisanon ko kheti se jude kai fayde milte hain. Ismein kheti ke liye upayog hone wale beej, fasal ki kheti mein sahayata, krishi takneek, aur uchit irigation jaise kai maamlon mein sarkar ya anya sansthaon ka bhi sahyog hota hai. Iske atirikt, samuhik krishi mein krishi takneek, avishkar, aur vaigyanik anusandhan ka bhi vyavsayik roop se istemal hota hai.

Samuhik Krishi ke Labh

1. Takneekiy Sudhar

Samuhik krishi ke sadasyon ke beech ek sampark ka udaharan dekar, takneekiy sudhar ke liye adhik samay aur mahatvapoorna anusandhan hota hai. Isse kisanon ko modern takneek aur upayogshil takniko ka pata chalta hai, jisse unki kheti ka utpadan badhta hai. Samuhik krishi mein krishi vaigyanikon ka bhi sahyog hota hai, jo naye beej, fasalon ki kheti mein sudhar, aur prakritik apdaon se bachne ke liye nai takneekon par kaam karte hain.

2. Samudayik Sahayog aur Anubandh

Samuhik krishi, ek samudayik sahayog ki den hai, jisme kisan ek-dusre ki madad karte hain. Isse kisanon ke beech ek majboot aur sajiv samarthan ka vikas hota hai. Jab ek kisan ko koi samasya ho, to samuhik roop se uski madad ki jaati hai, jisse uske samasya ka samadhan ho sake. Isi tarah, ek kisan ki safalta dusre kisanon ke liye prerana ka karya karti hai.

3. Sanchayit Beej

Samuhik krishi mein, kisanon ke paas sanchayit beej ka bhandar hota hai, jo unhe fasalon ko ugane ke liye upayog mein la sakte hain. Sanchayit beej ki upalabdhi se kisanon ko mahenge beej kharidne ki jarurat nahi padti, aur yeh unke liye ek bachat ka sadhan ban jata hai.

4. Rishton ka Vikas

Samuhik krishi ke sadasyon ke beech rishte majboot hote hain. Ismein kisan ek-dusre ke saath sahayog karte hain, unki samasyaon ka samadhan karte hain, aur ek-dusre ki takneekon aur anubandhon se seekhte hain. Is tarah, samuhik krishi ek samriddh aur prem-purvak samaj ka vikas karta hai.

Samuhik Krishi ki Chunautiyan

1. Prakritik Apdaon ka Samna

Krishi mein sabse badi chunauti prakritik apdaon se hoti hai. Samuhik krishi ke prakriya mein bhi, prakritik apdaon ka samna karna kisanon ke liye mushkil hota hai. Mausam ki adhikatar parivartan, vrishti ki kami ya atyadhik hona, tufan, aniyamit samayikta, bhukamp aadi prakritik apdaen kisanon ko apne utpadan par asar daal sakti hain.

2. Taknikon ki Upalabdhi

Samuhik krishi mein ek chunauti taknikon ki upalabdhi ka bhi hai. Kai bar kisanon ko naye takneekon ke bare mein pata nahi hota hai ya unka sahi istemal nahi hota hai. Iska karan ho sakta hai ki unhe takneekon ki jaankari na ho, ya phir takneekon ke istemal ke liye unke paas sahi sujhav aur samarthan na ho.

3. Bade Vyapariyon ki Dabav

Krishi vyavsay mein, bade vyapariyon ka dabav kisanon ke liye ek badi samasya hai. Bade vyapari apne utpadon ko bechne ke liye kisanon par dabav dalte hain aur unhe thik bhav nahi milta hai. Isse kisanon ki arthik sthiti prabhavit hoti hai aur unki svatantrata kam ho jati hai.

Samuhik Krishi ki Upalabdhiyan

1. Sahajikaran

Samuhik krishi ke antargat, sarkar aur anya sansthaon ka kisanon ko sahayog pradan karna sahaj hota hai. Sarkar kisanon ko beej, khad, aur anya avashyak samagri uplabdh karvati hai, taki unki kheti mein sudhar ho sake. Iske alawa, sarkar krishi takneek aur anusandhan ke liye anudan bhi pradan karti hai.

2. Uchit Bhav

Samuhik krishi mein kisanon ko unke utpadan ke liye uchit bhav milta hai. Samuhik roop se fasalon ko khareed kar uski boli jati hai, jisse kisanon ko munafa hota hai aur unki arthik sthiti sudhar jati hai.

3. Takneekiy Sudhar

Samuhik krishi mein takneekiy sudhar ke liye vyavsayik sahayog uplabdh hota hai. Krishi vaigyanik aur anusandhan sansthaen kisanon ko naye beej, fasalon, aur takneekon ka parichay karti hain, jisse unki kheti ka utpadan badhta hai.

4. Sahayata ke Kendra

Samuhik krishi ek sahayata ke kendr ki tarah kaam karta hai, jahan kisan apni samasyaon ka samadhan pa sakte hain. Ismein kisanon ko kheti se jude kai maamle mein sahayata pradan ki jati hai, jisse unki kheti ko sudharne mein madad milti hai.

Samuhik Krishi: Bhavishya ki Aasha

Samuhik krishi, Bharat ki krishi ko sudharne ka ek mahatvapoorna madhyam hai. Yeh kisanon ke beech ek majboot anubandh ka vikas karta hai, jisse unhe modern takneek aur takniko ka pata chalta hai. Iske madhyam se kisanon ko prakritik apdaon ka samna karne, taknikon ki upalabdhi karne, aur bade vyapariyon ke dabav ka samna karne ki kshamata milti hai.

Samuhik krishi ka vikas karne ke liye sarkar, krishi vaigyanik, aur vyavsayik sahayog ki avashyakta hoti hai. Sarkar ko kisanon ke liye suvidhajanak yojanayein taiyar karne chahiye, jinme takneekiy sudhar, beej, khad, avashyak samagriyon ki upalabdhi ho. Krishi vaigyanik ko kisanon ko naye beej, fasalon, aur takneekon ka parichay karne ki jarurat hoti hai, taki unki kheti ka utpadan badhe. Vyavsayik sahayog se kisanon ko behtar bhav milta hai, jisse unki arthik sthiti sudhar jati hai.

Samuhik krishi ek aisa pahal hai, jiska sahi roop se vikas karke, Bharat ko krishi ki disha mein ek nayi pragati ki ore le jana sambhav hai. Yeh ek aisa madhyam hai, jiska upayog karke, krishi mein sudhar laaya ja sakta hai, aur kisanon ko samriddhi aur unnati ki disha mein age badhne ka avsar milta hai. Iske liye, samuhik roop se kisanon ka sahyog pradan karne wale adhik se adhik logon ka sahyog avashyak hai, taki yeh pahal ek safalata ki aur agrasar ho sake.

सामूहिक कृषि को सोवियत संघ में किस रूप में जाना जाता है

सामूहिक कृषि को सोवियत संघ में “कोल्खोज” (Collective Farming) नाम से जाना जाता था। यह एक व्यवस्था थी जिसमें खेती के क्षेत्र में कई किसानों को एक साथ मिलकर काम करने की अनुमति दी जाती थी। सोवियत संघ में कोल्खोजों के माध्यम से कृषि उत्पादन को बढ़ावा दिया जाने का प्रयास किया जाता था। इसका उद्देश्य था किसानों को आधुनिक तकनीकों के साथ कृषि करने, उत्पादन को बढ़ाने, और सामूहिक तौर पर धान, गेहूँ, मक्का, और अन्य फसलें उत्पादित करने का था।

सहकारी कृषि और सामूहिक कृषि में अंतर

सहकारी कृषि और सामूहिक कृषि में अंतर हैं। निम्नलिखित हैं उन दोनों में कुछ मुख्य अंतर:

1. प्रबंधन और संचालन:

सहकारी कृषि: सहकारी कृषि में, एक सहकारी समिति के रूप में किसानों के संगठन के उद्देश्य से एकत्र होते हैं जिसमें सभी सदस्यों का समान भागीदारी होता है। सहकारी समिति के सदस्य खुद उसके प्रबंधन और संचालन में सहयोग करते हैं। यहां पर सभी सदस्यों को नियमित अंशदान देना आवश्यक होता है।

– सामूहिक कृषि: सामूहिक कृषि में, किसानों के एक समूह या संगठन के द्वारा कृषि कार्यों का संचालन किया जाता है। इसमें उनके बीच साझा भागीदारी होती है, लेकिन सामूहिक कृषि में सभी सदस्यों का समान भागीदारी नहीं होता है। सामूहिक कृषि समूह का प्रबंधन चुनिंदा सदस्यों द्वारा किया जाता है।

2. लाभ विभाजन:

सहकारी कृषि: सहकारी कृषि में, उत्पादित फसलों के लाभ को सभी सदस्यों के बीच समान रूप से विभाजित किया जाता है। सभी सदस्यों को इस वितरण में भाग लेने का अधिकार होता है।

सामूहिक कृषि: सामूहिक कृषि में, लाभ का वितरण समूह के निर्धारित नियमों और शर्तों के अनुसार होता है। यह वितरण सामूहिक कृषि समूह के नेतृत्व द्वारा निर्धारित होता है और सदस्यों के अनुसार विभाजित नहीं होता है।

3. संसाधनों का अधिग्रहण:

सहकारी कृषि: सहकारी कृषि में, समिति या सहकारी संगठन संसाधनों को उधार लेता है और उन्हें उन सदस्यों के बीच वितरित करता है जो इन संसाधनों का उपयोग करते हैं। सदस्यों को वापस संसाधनों के लिए ब्याज देना होता है।

सामूहिक कृषि: सामूहिक कृषि में, समूह या संगठन स्वयं अपने संसाधनों का अधिग्रहण करता है और उन्हें सदस्यों के लिए उपयोग में लाता है। सामूहिक कृषि में, संसाधनों का अधिग्रहण समूह के सदस्यों द्वारा संगठित रूप से होता है।

इन तत्वों के माध्यम से, सहकारी कृषि और सामूहिक कृषि में

थोक भिन्नता होती है जो उन्हें अलग-अलग तरीके से कृषि क्षेत्र में उपयोग किया जाता है।

सामूहिक खेतों को क्या कहा जाता है

सामूहिक खेतों को “कॉलेक्टिव फार्म” या “कोल्खोज” कहा जाता है।

सामूहिक खेती के गुण और दोष

सामूहिक खेती के गुण:

1. सामूहिक कामकाज: सामूहिक खेती में किसानों को एक साथ मिलकर काम करने का अवसर मिलता है। इससे कृषि उत्पादन में समय और मेहनत की बचत होती है।

2. संसाधन साझा करना: सामूहिक खेती में, किसान संसाधनों को साझा करते हैं जैसे कि कृषि उपकरण, खेती से संबंधित ज्ञान, और बीज। इससे संसाधनों का उपयोग बेहतर तरीके से होता है।

3. ज्ञान और तकनीक का साझा करना: सामूहिक खेती में, किसानों को नवीनतम ज्ञान और तकनीकों का लाभ मिलता है जो उनके उत्पादन को सुधारते हैं।

4. वितरण में लाभ: सामूहिक खेती में, खेती से होने वाले लाभ को समूह के सदस्यों में समान रूप से वितरित किया जाता है।

सामूहिक खेती के दोष:

1. प्रबंधन की कठिनाई: सामूहिक खेती में, समूह के सदस्यों को संचालित करने के लिए अच्छे प्रबंधन की आवश्यकता होती है। यदि प्रबंधन में कमी होती है तो उत्पादकता प्रभावित हो सकती है।

2. समूह में अनबंधितता: कुछ समयों में, समूह के सदस्यों के बीच अनबंधितता हो सकती है जिससे सहमति प्राप्त करने और निर्णय लेने में कठिनाई हो सकती है।

3. संघर्ष: विभिन्न सदस्यों के बीच विभिन्न दृष्टिकोण या इच्छाएं हो सकती हैं, जिससे संघर्ष हो सकता है और समूह के संचालन में बाधा हो सकती है।

4. सदस्यों की लापरवाही: सामूहिक खेती में, कुछ सदस्य अपने योगदान में लापरवाह हो सकते हैं जिससे समूह की कार्यक्षमता प्रभावित हो सकती है।

यह दोष सामूहिक खेती को सफलता तक पहुंचाने में बाधा बन सकते हैं।

निम्न में से कौनसी एकल कृषि नहीं है

निम्नलिखित में से कोई भी एकल कृषि नहीं है:

मक्का उत्पादन का खेती करना।

चावल उत्पादन का खेती करना।

गेहूं उत्पादन का खेती करना।

सब्जीयों की उत्पादन का खेती करना।

एकल कृषि का अर्थ होता है एक ही विशेष फसल की खेती करना। इसमें किसान केवल एक ही प्रकार की फसल उत्पादन करते हैं। जबकि चार विकल्पों में सभी विभिन्न प्रकार की फसलें हैं जिससे वे एकल कृषि नहीं हैं।

Conclusion

Samuhik krishi ek aisa vikas karyakram hai, jise safalta ki aur agrasar karna ek sambhavna hai. Yeh ek aisa madhyam hai, jisse kisanon ki samasyaon ka samadhan kiya ja sakta hai, aur unhe modern takneek aur takniko ka pata chalta hai. Iske madhyam se, kisanon ko uchit bhav milta hai, takneekiy sudhar hota hai, aur krishi mein sudhar aata hai. Sarkar, krishi vaigyanik, aur vyavsayik sahayog ke saath-saath, samuhik krishi ko safal banane mein hum sabhi ka sahyog avashyak hai. Samuhik krishi ka vikas karke, hum Bharat ko ek naye krishi yug ki or agrasar kar sakte hain, jahan samriddhi aur unnati ki disha mein kisanon ka kadam chalta hai.

FAQs

Q. सामूहिक कृषि का दूसरा नाम क्या है?

ANS- सामूहिक कृषि का दूसरा नाम “समुचित खेती” होता है।

Q.सोवियत संघ में सामूहिक कृषि को क्या नाम दिया गया है?

ANS-सामूहिक कृषि को सोवियत संघ में “कोल्खोज” (Collective Farming) नाम से जाना जाता था।

Q.सामूहिकीकरण कहां हुआ था?

A. सामूहिकीकरण का प्रारंभ रूस में था, जो सोवियत संघ के शासनकाल के दौरान हुआ था। 20वीं सदी के दशकों में, वहां के समूहों ने कृषि क्षेत्र में सहकारी और सामूहिक खेती का प्रचार-प्रसार किया और इसे “कोल्खोज” और “सो्थोज” के रूप में जाना गया। इन पद्धतियों के माध्यम से, सामूहिक रूप से कृषि उत्पादन का प्रबंधन होता था और किसानों के बीच विकास और समृद्धि के लक्ष्य से काम किया जाता था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top